वाराणसी- प्रधानमन्त्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मंगलवार शाम को निर्माणाधीन ओवर ब्रिज का एक पिलर गिर गया। ब्रिज के नीचे से गुजर रही एक मिनी बस सहित कई गाड़ियां पिलर के नीचे दब गई। घटना में अभी तक 18 लोगों के मारे एवं 9 जनों के घायल होने की सूचना है। रेस्क्यू ऑपरेशन कंप्लीट कर लिया गया है लेकिन अभी मृतकों की सही सही संख्या का पता नहीं चल पाया है। सीएम योगी और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बनारस पहुँच गए है। सीएम योगी ने घटना स्थल का दौरा किया एवं घायलों का हालचाल लिया। योगी ने मृतक आश्रितों को 5-5 लाख रूपये एवं घायलों को 2-2 लाख रूपये की सहयता राशि देने की घोषणा की है।

वाराणसी के केंट रेलवे स्टेशन के सामने फ्लाई ओवर बन रहा है। मंगलवार शाम को रोज की तरह फ्लाई ओवर के नीचे से वाहन गुजर रहे थे। लगभग 06 बजे के आसपास निर्माणधीन ब्रिज का एक भारी भरकम पिलर गुजर रही गाड़ियों और राहगीरों पर गिर गया। पिलर इतना भारी था की पुलिस और प्रशासन के अधिकारीयों के पहुँचने के बाद भी रेस्क्यू शुरू नहीं किया जा पा रहा था। अफवाह उड़ रहीं थी की 50 से अधिक लोग पिलर के नीचे दबे है। प्रशासन के पास भी इतनी बड़ी कोई क्रेन नहीं थी की पिलर को हटा कर रेस्क्यू कर सकें। घण्टों इंतजार के बाद एनएचएआई की बड़ी क्रेन घटना स्थल पर पहुँची तब जाकर पिलर को हटाया गया। पिलर के नीचे दबकर कई गाड़ियां सड़क से चिपक गई थी। प्रशासन अभी तक मौतों का सही आंकड़ा बता नहीं पा रहा है। अभी तक इस हादसे में 18 लोगों के मरने एवं 9 लोगों के घायल होने की पुष्टि खुद डिप्टी सीएम ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में की है। घायलों को मण्डलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सीएमओ का कहना है की सभी मृतकों के शव मोर्चरी में पहुँच जायेंगे तभी मृतकों का सही आंकड़ा बता पाएंगे। वाराणसी में इस हादसे से अफरातफरी का माहौल है। जिन लोगों के परिजन घर नहीं पहुँचे है वे लोग उन्हें घटनास्थल और अस्पतालों में तलाश कर रहे है।


सचिव लोक निर्माण विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा जारी सूचना के आधार पर इस हादसे के बाद NDRF की 7 टीम राहत व बचाव कार्य मे लगी । इस घटना की जाँच के लिए तीन सदस्यीय उच्च स्तरीय तकनीकी जांच टीम का गठन किया गया है जिसमे YK गुप्ता मुख्य अभियंता PWD को अध्यक्ष, YK शर्मा संयुक्त प्रबंध निदेशक सेतु निगम  एवं SK गुप्ता चीफ इंजीनियर इलाहाबाद को सदस्य बनाया गया है।यह समिति हादसे के तकनीकी कारणों की जांच रिपोर्ट 15 दिन में देगी।

हादसे के कारण प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर HC तिवारी तथा प्रोजेक्ट मैनेजर  K R सूदन , राजेन्द्र सिंह सहायक अभियंता व लालचन्द जूनियर इंजीनियर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निर्माण कार्य प्रभावित न हो इसलिये नए चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर की तैनाती कर दी गई है। घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती किया गया  उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य स्वयं घायलों के उपचार की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। पीएम मोदी ने घटना पर दुःख व्यक्त किया है।

LEAVE A REPLY