रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया ने अपनी मौद्रिक नीति की समीक्षा में बुधवार कोे रेपो रेट में .25 प्रतिशत की कटौती कर दी। अब यह दर 6.26 फीसदी से कम हो कर 6 फीसदी रह गई है। रेपो रेट वह दर होती है जिस पर आरबीआई शार्ट पीरियड के लिए बैंकों को ऋण उपलब्ध कराती है। रेपो रेट में कमी होने के बाद बैंकों ने भी रिवर्स रेपो रेट को .25 प्रतिशत घटाकर 7 साल के न्यूनतम स्तर 5.75 प्रतिशत कर दिया है। 2010 से यह दर 6 फीसदी थी जो अब घटकर 5.75 फीसदी रह गई है। सीआरआर में भी RBI ने 4 फीसदी की कमी की है। कर्ज को सस्ता कर ग्रोथ में वृद्धि करने के उद्देश्य से ही यह कटौती की गई है। रेपो रेट में कटौती से हाउस लोन, वाहन लोन, पर्सनल लोन और बिज़नेस लोन सस्ते हो सकते है।

LEAVE A REPLY