कर्नाटक में 15 मई को आये खंडित जनादेश के बाद कांग्रेस,बीजेपी और जेडीएस में चल रही राजनैतिक उठापटक के बीच राज्यपाल ने बीजेपी के यदुरप्पा को सरकार बनाने के लिए चिट्ठी भेजी है। चिठ्ठी में 15 दिन में बीजेपी को सदन में बहुमत साबित करने का वक्त दिया गया है। बीजेपी विधायक दल के नेता येदुरप्पा कल मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। अभी यदिरप्पा अकेले ही शपथ लेंगे मंत्रिमण्डल की घोषणा बाद में की जायेगी। कांग्रेस ने राज्यपाल के इस फैसले को लोकतन्त्र की हत्या बताया है।


मंगलवार को चुनाव परिणाम आने के बाद बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली थी। बीजेपी के मुख्यमन्त्री पद के उम्मीदवार यदुरप्पा ने मंगलवार को ही राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। कांग्रेस ने भी जेडीएस को बिना शर्त समर्थन देने की घोषणा कर दी। आज बुधवार को कांग्रेस के विधायक दल की बैठक ली। साथ ही जेडीएस के मुख्यमन्त्री पद के उम्मीदवार कुमारस्वामी को विधायकों के साइन समर्थन की हुई चिठ्ठी सौप दी। जेडीएस के कुमार स्वामी ने राज्यपाल से मिलकर उन्हें117 विधयकों के हस्ताक्षर की हुई चिठ्ठी सौंपी और सरकार बनाने का दावा पेश किया।


बुधवार शाम को राज्यपाल ने कांग्रेस और जेडीएस के दावे को दरकिनार करते हुए बीजेपी के यदुरप्पा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया गया है। गुरुवार को सुबह 9 बजे यदुरप्पा कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।
कांग्रेस ने राज्यपाल के इस फैसले को असंवैधानिक बताया है। राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कांग्रेस ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार के पास कांग्रेस ने अर्जी दी है। अर्जी में उन्होंने मुख्मंत्री पद के शपथ ग्रहण को रुकवाने की मांग की है। रात में कोर्ट सुनवाई करे या नहीं इस बात का फैसला सीजेआई करेंगे।

LEAVE A REPLY