झूठे शपथ पत्र मामले में सलमान की मुश्किलें बढ़ेंगी या घटेंगी अब 17 जून को होगा फैसला
जोधपुर: काले हिरण शिकार मामला सलमान खान के लिए गले की हड्डी बन गया है। शस्त्र लाइसेंस को को लेकर कोर्ट में दिए गए झूठे शपथ पत्र को लेकर आज मंगलवार को जोधपुर के सीजेएम ग्रामीण कोर्ट में सुनवाई हुई। सलमान के वकील ने कोर्ट में दलील दी कि सलमान का मंतव्य कोर्ट को गुमराह करना या झूठा शपथ पत्र देना बिल्कुल नहीं था। इसलिए उनके विरूद्ध किसी भी तरह की कानूनी कार्यवाही न्यायोचित नहीं होगी। कोर्ट ने इस पर फैसला सुरक्षित रख लिया है और 17 जून को अपना फैसला सुनाएगी।
1998 में सलमान खान फिल्म हम साथ साथ है कि शूटिंग करने के लिए जोधपुर आए थे। उस समय उन पर काले हिरण का शिकार करने का आरोप लगा था। उन पर चार मुकदमे दर्ज किए गए। एक आर्म्स एक्ट को लेकर था जबकि तीन काले हिरण को लेकर मामले दर्ज किए गए। आर्म्स एक्ट में कोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया था। इस मामले कि सुनवाई के समय कोर्ट ने सलमान का आर्म्स लाइसेंस जमा करने के आदेश दिए थे। लेकिन सलमान ने एक शपथ पत्र कोर्ट में पेश किया जिसमें लिखा था कि उनका आर्म्स लाइसेंस गुम हो गया है इसलिए लाइसेंस जमा नहीं करा सकते। ऐसा कहा जा रहा है कि जब शपथ पत्र कोर्ट में पेश किया गया था तब उनका लाइसेंस नवीनीकरण के दिया हुआ था। अभियोजन पक्ष ने इसे आधार बनकर 2006 में कोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि सलमान ने गलत शपथ पत्र दायर कर कोर्ट को गुमराह किया है उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 340 के तहत कानूनी कार्यवाही हो। इसी मामले को लेकर सुनवाई चल रही थी। मंगलवार को कोर्ट ने इस पर फाइनल सुनवाई की। जिसका फैसला 17 जून तक सुरक्षित रख लिया है। इस मामले लो लेकर सलमान के खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही होगी या नहीं इसका फैसला 17 जून को होगा।

LEAVE A REPLY