रांची:  बिहार के पूर्व सीएम और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को बहुचर्चित चारा घोटाले के एक केस में सीबीआई की विशेष अदालत आज सजा सुनाने वाली थी। लेकिन सरकारी वकील विन्देश्वरी प्रसाद के निधन के चलते सजा पर सुनवाई कल गुरुवार तक के लिए टाल दी गई है। 24 दिसम्बर 2017 को सीबीआई कोर्ट ने 1990 से 1994 के बीच सरकारी खजाने में से 89.27 लाख रुपये की अवैध निकासी पर लालू प्रसाद यादव सहित 16 लोगों को दोषी करार दिया था। इसी मामले में कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र सहित 6 लोगों को बरी कर दिया था। दोषी करार दिए जाने के बाद लालू और अन्य को बिरसा मुंडा जेल रांची भेज दिया था। दोषी घोषित होने के बाद लालू ने बीजेपी पर कई संगीन आरोप भी लगाये।
आज सजा पर सुनवाई होनी थी। लालू सहित सभी दोषियों को सुबह ही कड़ी सुरक्षा के बीच बिरसा मुंडा जेल से रांची की विशेष सीबीआई अदालत लाया गया। कोर्ट परिसर में आरजेडी के काफी समर्थक भी पहुँचे। लेकिन वकील की मौत के चलते कोर्ट ने सजा पर सुनवाई कल तक के लिए टाल दी। सूत्रों से खबर है कि सभी 16 लोगों की सजा पर बहस अल्फा बीटा नाम के हिसाब से होगी। इसलिए जो सकता है कि लालू प्रसाद का नंबर आने में एक दो दिन लग सकते है।

इससे पहले लालू को कड़ी सुरक्षा के बीच बिरसा मुंडा कारागार से रांची स्थित सीबीआई की विशेष अदालत में लाया गया। इस दौरान अदालत की सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी। लालू के साथ आरजेडी के कई कार्यकर्ता भी मौजूद दिखे।

LEAVE A REPLY