Friday, March 22, 2019

लोकतन्त्र के लिए सोशल मीडिया कहीं विध्वंसक तो नहीं होता जा रहा ?

अरब में सोशल मीडिया के जरिए 2011 में आई चेतना में लोकतंत्र की नई उम्मीद दिखी थी। लेकिन लीबिया को छोड़ कहीं भी सकारात्मक...

लंकेश हत्याकांड: हत्या के दो घंटे के अंदर ही सोशल मीडिया और मीडिया के...

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की जितनी भी निंदा की जाय, कम ही होगी। लेकिन जिस तरह से सोशल मीडिया पर एकतरफा ढंग...

दैहिक आकर्षण और भौतिक शोषण के बीच पिसते नारी तन-मन की मुक्ति कैसे होगी

हरियाणा के विकास बराला तथा उसके साथी ने कहा है कि वे वर्णिका का अपहरण नहीं करना चाहते थे, केवल उसे देखना चाहते थे...